“बाज़ार का राजा-जय उपभोक्ता”

“बाज़ार का राजा-जय उपभोक्ता”

एक समय था जब मैं था बाज़ार का राजा,

पर आज निर्माताओं और विक्रेताओं ने बजा डाला मेरा बजा

अब आप पूछेंगे कैसे?

अरे भई ऐसे वैसे जैसे तैसे

करते रहे मिलावट

हमारी ना सुनी आहट

इतना ही नहीं सेल, ओफर, भ्रामक विज्ञापन से हमको लुभाते रहे

अपने षड़यन्त्रो में हमें बुरी तरह फसाते रहे

दाम पूरा, गुणवता और तौल कम

हम हो गये लाचार और गये सहम

बस मक़सद था मुनाफ़ा कमाना और उपभोक्ताओं को बेवक़ूफ़ बनाना

पर इसमें कुछ गलती तो हमारी भी है

जागरूक रहना भी तो हमारी ही ज़िम्मेदारी है

हमें तो पता भी नहीं की कर सकते है इनकी शिकायत

उपभोक्ता संरक्षण क़ानून दिला सकता है हमको इनसे राहत

अरे भाई ज़्यादा कुछ नहीं करना है

सिर्फ़ सतर्क और सचेत रहना है

ख़रीददारी कर के बिल ज़रूर लेना है

किसी भी धोखा धड़ी को अनदेखा नहीं करना है

अब तो संशोधित उपभोक्ता क़ानून 2019 भी आ गया है

धोखाधड़ी और जालसाज़ी करने वालों पर भारी जुर्माना भी संग लाया है

मैं उपभोक्ता बाज़ार का राजा था

आज भी हूँ और हमेशा रहूँगा

परेशान करने वालों के ख़िलाफ़ उचित कार्यवाही भी अवश्य करूँगा

बच कर रहना विक्रेताओं और निर्माताओ

ज़रूरत पड़ने पर तुम्हें भी सज़ा दिलवाकर ही दम लूँगा

जागो ग्राहक जागो अपने अधिकारो और दायित्वों को पहचानो

जागरूक उपभोक्ता सुरक्षित उपभोक्ता

Happy caucasian white consumer carrying shopping bags. Young man holding a lot of shopping bags. Guy showing his purchases. Vector cartoon illustration isolated on white background. Square layout.

written By

Leave a Reply